आयुष्मान भारत योजना (MP-JAY) प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना

आयुष्मान भारत योजना (Ayushman Bharat Yojana) या प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (MP-JAY) भी जाना जाता है, केंद्र सरकार के प्रयास से शुरू की गई एक स्वास्थ्य संबंधित योजना है, साल 2018 के बजट सत्र में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इस योजना के आरंभ को लेकर जानकारी दी थी।

यह योजना 23rd September 2018 को देश के प्रधान मंत्री द्वारा शुरू की गयी थी । इस योजना का यह फायदा है कि इससे देश के तकरीबन 50 करोड़ से भी अधिक गरीब परिवार को 5 लाख रुपये कीमत तक का स्वास्थ्य सुरक्षा कवर मुहैय्या किया जा रहा है।

यह योजना हकीकत में हमारे देश के आर्थिक तौर पर दुर्बल लोगों के लिए एक हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम ही है। इस योजना के CEO Dr. Indu Bhushan ने यह कहा है कि, “हम PM-JAY को एक ब्रांड बना देंगे जिससे लोगों को मालूम हो कि उन्हें कहां जाकर किससे संपर्क करना है।

करीब 10 करोड़ से भी ज्यादा गरीब परिवारों को स्वास्थ्य बीमा से लाभान्वित करने वाली इस योजना को प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना से भी पहेचाना जाता है | इस योजना के अनुसार सरकारी और निजी अस्पतालों में बिना मूल्य ही उपचार की सुविधा उपलब्ध होगी।

Ayushman Bharat Yojana से संबंधित सारी जानकारी जैसे कि आवेदन की प्रक्रिया, पात्रता की जांच, जरूरी दस्तावेज़ आदि सभी जानकारी आपको हमारे इस आर्टिकल से मिलेगी। इस लिए इस आर्टिकल को ध्यान से अंत तक जरूर पढ़ें।

कौन ले सकता है इस योजना का फायदा?

1. देश के 10 करोड़ से भी अधिक गरीब और सुविधाओं से वंचित परिवार PM-JAY का फायदा उठा पाएंगे।

2. इन सभी परिवारों की पहचान सामाजिक-आर्थिक जाति जनगणना के आंकड़ों के आधार पर हुइ है।

3. इस योजना से फायदा हासिल करने के लिए परिवार के कोई भी उम्र की सीमा तय नहीं की गई है।

कौन-सी बिमारी का इलाज इस योजना में शामिल हैं

इस योजना में पुरानी बीमारियों के साथ अन्य कइ बड़ी बिमारीयों को भी शामिल किया गया हैं। इस योजना के मुताबिक किसी भी बीमारी के मौके पर अस्पताल में दाखिल होने से पहले और बाद के तमाम खर्चे भी शामिल किए गए हैं और ट्रांसपोर्ट पर होने वाला खर्च भी इसी में शामिल किया गया है। हर बीमारी की परिस्थितियों में सारे ही मेडिकल जांच/ऑपरेशन/इलाज आदि इस योजना के तहत ही होते हैं।

आयुष्मान भारत योजना की सुविधाए:

  • मानसिक बिमारियो से संक्रमित रोगी का इलाज।
  • उम्रदराज रोगियों के लिए तत्काल चिकित्सा।
  • प्रसूति के दौरान महिलाओ के लिए सुविधाएं और इलाज।
  • दांतो के रोगो का इलाज।
  • बच्चे के स्वास्थ्य से संबंधित चिकित्सा और सुविधाएं।
  • अधेडउम्र, बच्चे, महिला के स्वास्थ्य पर खास ध्यान।
  • महिला को प्रसूति के समय 9000 रूपये तक की छूट।
  • नवजात एवं शिशु स्वास्थ्य से संबधित सारी सेवाएं।
  • टीबी के मरीजों का उपचार, इन सभी सुविधाओं के लिए सरकार द्वारा कुल 600 करोड़ रूपये का प्रावधान किया गया है।
  • मरीज के भर्ती होने से पहले तथा डिस्चार्ज होने के बाद भी सरकार द्वारा ही सभी खर्चे की रकम का भुगतान होगा।

ज़रूरी दस्तावेज़:

  • राशन कार्ड
  • आधार कार्ड (परिवार के सभी सदस्यों का)
  • मोबाइल नंबर
  • एड्रेस प्रूफ

इस योजना का लाभ लेने के लिये इच्छुक लोगों की पात्रता को ग्राम्य और शहेरी हिस्सो मे विभाजित किया गया है।

आयुष्मान भारत योजना के लाभार्थियों की पात्रता (ग्रामीण क्षेत्रों के लिए):

  • ग्रामीण क्षेत्रों में कच्चा मकान होना जरूरी।
  • परिवार की मुख्य सदस्य महिला होनी चाहिए।
  • परिवार के सदस्यों मे से कोई एक सदस्य विकलांग होना चाहिए।
  • कोई भी वयस्क 16-59 वर्ग की आयु का नही होना चाहिए।
  • व्यक्ति मजदूरी काम करता हो।
  • हर महीने की आमदनी 10000 से कम होनी चाहिए।
  • बेआसरा और भूमिहीन।

इसके अलावा ग्रामीण क्षेत्रों में भीख मांगने वाला या फिर बंधुआ मजदूरी कर रहा हो वो आयुष्मान भारत योजना में शामिल हैं।

आयुष्मान भारत योजना में लाभार्थियों की पात्रता (शहरी क्षेत्रों के लिए):

कूड़ा कचरा उठाने वाला, फेरी वाला, मजदूरी काम करने वाला, गार्ड की नौकरी करने वाले, मोची, सफाई कर्मी, टेलर, ड्राईवर, दुकान में काम करने वाले, रिक्शा चलाने वाले, कुली का कम करने वाले, पेंटर, कंडक्टर, मिस्त्री, धोबी आदि सभी इस योजना में शामिल हैं।

जिनकी हर महीने की आमदनी 10,000 से कम है वह सभी लोग आयुष्मान योजना में शामिल हो सकते हैं।

प्रधान मंत्री आयुष्मान योजना

पात्रता की जांच:

जो लोग इस योजना के अंतर्गत अपनी पात्रता के लिए जांच करना चाहते है वे नीचे बताए गए 2 तरीके से अपनी पात्रता के बारे में जांच कर सकते है।

जानिए आपका परिवार प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना में सम्मिलित है या नहीं।

  • आयुष्मान भारत योजना की आधिकारिक वेबसाइट पर जाये https://mera.pmjay.gov.in.
  • इसके बाद योग्य अनुभाग के मुताबिक लॉगिन करने के लिए अपने मोबाइल नंबर को OTP के साथ दर्ज करे।

लॉगिन करने से पहले इस योजना में अपने परिवार की पात्रता की जांच करे इसके बाद आपको दो विकल्प नजर आएंगे, पहले विकल्प में अपने राज्य को चुने।

  • दूसरे विकल्प में आपको तीन श्रेणियाँ मिलेंगी।
  • उन मे से नाम के आधार पर अपने Ration Card तथा Mobile Number को खोजे और वहां दी गयी श्रेणियों में से किसी एक को चुन सकते है।
  • इसके बाद सब्मिट के बटन पर क्लिक कर दीजिये।

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के लिये आवेदन:

जो इच्छुक इस योजना के लिए आवेदन करना चाहते है वो आवेदन प्रक्रिया को बहुत ही ध्यान से पढ़े और इस योजना का फायदा उठाये।

प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत योजना के तहत आवेदन करने के लिए जन सेवा केंद्र में जाये और उपर बताए गए अपने सारे मूल दस्तावेज़ की झैरोक्स कापी को जमा कर दे।

इसके बाद जनसेवा केंद्र के एजेंट इन सभी दस्तावेज़ों की जांच करके योजना का आवेदन तय करेंगे तथा आपको पंजीकरण प्रधान करेंगे।

उसके बाद 10 से 15 दिन में आपको जन सेवा केंद्र के द्वारा आयुष्मान भारत कार्ड मिल जायेगा और आपका आवेदन सफलता पूर्वक हो जायेगा।

PM-JAY App:

आप चहे को आयुष्मान भारत योजना App भी Download कर सकते है जो आपको PMJAY के बारे में जानकारी प्राप्त करने में आसानी प्राप्त होगी, और आप इस PM-JAY ऍप के द्वारा पात्रता की जाँच और अस्पतालों की लिस्ट चेक कर सकते है।

अधिक जानकारी के लिए निचे दिए गए टोल-फ्री नंबर पर कॉल करे:

संपर्क करें:

  • Address:

3rd, 7th & 9th Floor, Tower-l, Jeevan Bharati Building, Connaught Place, New Delhi – 110001

  • Phone Number:

टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर (Toll-Free Helpline): 14555/ 1800111565

आयुष्मान भारत योजना

Pradhan Mantri Jan Arogya Yojana का मुख्य उद्देश्य:

इस योजना का मुख्य उद्देश्य गरीब ग्रामीण परिवारों और शहरी श्रमिकों के परिवारों की चिन्हित कैटेगरी को हेल्थ बीमा से फायदा पहुंचाना है। इसलिए साल 2011 की जनगणना के मुताबिक 8.03 ग्रामीण क्षेत्रों के परिवार और 2.33 करोड़ शहरी क्षेत्रों के परिवार इस योजना के अंतर्गत शामिल हैं।

साथ इस योजना का एक और उद्देश्य आर्थिक तौर पर दुर्बल लोगों को यानी की बीपीएल धारक को स्वास्थ्य बीमा मुहैय्या कराना भी है। योजना के अन्तर्गत आने वाले परिवार को 5 लाख तक का कैशरहित स्वास्थ्य बीमा मुहैय्या कराया जायेगा। देश के 10 करोड़ बीपीएल धारक परिवार को इस योजना से लाभान्वित करने के बाद बाकी आबादी को भी इस योजना के अंतर्गत लाने के बारे में सरकार योजना बना रहे है।

किस प्रकार लागू होगी Ayushman Bharat योजना?

सरकार ने इस योजना का प्रचार बड़े ही शान से किया है। हमारे देश के हर एक राज्यों को योजना की लिस्ट में शामिल अस्पतालों में कियोस्क बनाने के लिए भी हुक्म दिया है और इन सारे ही अस्पतालों में इस योजना के बैनर लगाए जाएंगे।

साथ ही अस्पतालों में मौजूद आरोग्य मित्र इस योजना को सफल बनाने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे । यूनिफॉर्म वाले यह आरोग्य मित्र इस योजना में शामिल लोगों की मदद करेंगे।

हमारे देश में कई गरीब परिवार ऐसे हैं जो गंभीर बीमारी होने पर और आर्थिक तंगी की वजह से अस्पतालों में अपना इलाज करवाने और भारी भरकम खर्च उठाने के लिए सक्षम नहीं होते है । इस योजना के कारण ऐसे लोगो को 5 लाख तक के स्वास्थ्य बीमा की सहायता मिलती है जिससे की उन्का अस्पतालों में मुफ्त इलाज है सकता है और उन्की स्वास्थ्य सम्बन्धी सारी परेशानी दूर हो जाती हैं।

इस योजना का दुसरा प्रभावशाली पहलू यह भी है कि बीमारी के कारण हो रहे मृत्यु दर में भी गिरावट आइ है। इस तरह इस योजना आर्थिक रूप से गरीब परिवारों को स्वास्थ्य बीमा मिलने के साथ ही उन्हें आर्थिक सहायता भी मिलती है।

योजना पर खर्च की जाने वाली राशि का प्रावधान:

1. इस योजना पर होने वाले खर्च का केंद्र और राज्य सरकार आपस में विभाजन रहे हैं।

2. इस योजना के संबंध में राज्य की हिस्सेदारी होना बेहद ही जरूरी है।

3. देश के हर एक राज्य की स्वास्थ्य एजेंसी को केंद्र सरकार एसक्रो अकाउंट से सीधे ही रक्म भेज रही है।

4. इस योजना का अनुमानित किया गया खर्च करीब 12 हजार करोड़ रुपये है।

5. आयुष्मान भारत योजना पर इस साल तकरीबन 5,000 करोड़ रुपये तक का खर्च होगा और अगले साल इस योजना पर 10,000 करोड़ रुपये का खर्च किया जाएगा। इस साल तकरीबन 8 करोड़ लोग इस योजना से फायदा उठाएंगे और अगले वित्त वर्ष से देश 10 करोड़ लोगों को पीएम-जय का फायदा देने का उद्देश्य है।

योजना के आरंभ के पहले साल होने वाले 5000 करोड़ रुपये के खर्च में से केंद्र सरकार 3,000 करोड़ रुपये की जिम्मेदारी संभालेंगी और फिर अगले वित्त वर्ष में यह लागत 7,000 करोड़ रुपये तक हो जाएगी। यूपीए सरकार द्वारा शुरू की गई राष्ट्रीय स्वास्थ्य बीमा योजना (आरएसबीवाई साल 2008 में) को भी आयुष्मान भारत योजना में ही शामिल कर लिया गया है।

आयुष्मान भारत योजना के तहत प्रगति करने वाले राज्य:

स्वास्थ्य मंत्रालय की रिपोर्ट के मुताबिक 6 केंद्र शासित प्रदेशों चंडीगढ़,अंडमान निकोबार, पुडुचेरी, दादर नगर हवेली और दमन दिऊ, लक्षदीप, तथा लद्दाख क्षेत्र ने इस योजना के तहत काफी प्रगति की है।

Ayushman Bharat Jan Arogya Yojana योजना का संचालन:

  • राष्ट्रीय स्तर पर आयुष्मान भारत योजना का संचालन राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन की देखरेख में हो रहा है।
  • राज्य स्तर पर इस योजना की संपूर्ण जिम्मेदारी प्रदेश स्वास्थ्य सुरक्षा एजेंसी को सौंपी गई है।
  • योजना के अनुसार देश के किसी भी अस्पताल में इलाज हो सकता है।
  • इस योजना के लिए नीति आयोग कैशलेस या फिर पेपरलेस उपचार के लिए आईटी फ्रेमवर्क को भी विकसित कर चुका है।

आयुष्मान भारत योजना का नया अपडेट:

आयुष्मान भारत योजना के तहत देश के लोगों को इस संक्रमण से बचाने के लिए एक पहल की गई है। देश की आबादी में से जो भी नागरिक इस योजना के लिस्ट में शामिल है और जो लोग इस PMJAY 2022 में पंजीकृत किए गए है उन सभी लोगों का निजी प्रयोगशाला में और पैनल के अस्पतालों में कोरोना संक्रमण की जांच और उपचार फ्री में होगा।

देश के गरीब परिवार के सदस्य को सरकारी अस्पताल में दाखिला तथा इलाज का संपूर्ण खर्च सरकार द्वारा ही किया किया जायेगा। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस योजना में 1350 पैकेज शामिल किये है जिसमे मस्तिष्क सर्जरी, कीमोथेरेपी, जीवनरक्षक, आदि इलाज शामिल है।

जो कोई भी इच्छुक इस योजना के अंतर्गत आवेदन करना चाहते है तो वह अपने करीबी जन सेवा केंद्र (CSC) में जाकर पंजीकरण करा सकते है और योजना का लाभ ले सकते है।

जन सेवा केंद्र में PMJAY के तहत आयुष्मान मित्र की मदद से गोल्डन कार्ड भी बन रहे है इस कार्ड की मदद से आप किसी भी सरकारी अस्पताल तथा निजी स्वास्थ्य केंद्र में 5 लाख तक की रकम तक का मुफ्त इलाज करा सकते है। इस योजना का लाभ लेने के लिये इच्छुक लोगों को कुछ जरुरी दस्तावेजों की कॉपी जमा करवानी पडेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.