क्लाउड कम्प्यूटिंग (Cloud Computing) क्या है? जानिये सब कुछ हिंदी में

आज का विषय है Cloud Computing in Hindi – आजकल IT के क्षेत्र में ‘क्लाउड कम्प्यूटिंग’ (Cloud Computing) का प्रयोग अत्यधिक सुनने में आ रहा है। क्लाउड कम्प्यूटिंग वास्तव में इंटरनैट आधारित प्रक्रियाओं और कम्प्यूटर एप्लीकेशन का प्रयोग है। Google इसका एक उदाहरण है जो कई प्रकार की सेवाएं अर्थात Google drive, Docs, Gmail एप्लीकेशन ऑनलाइन उपलब्ध कराता है।

इंटरनैट का प्रयोग करके इन सभी अप्प्स तक पहुंचा जा सकता है। इंटरनैट पर सर्वरों में जानकारियां (एप्लिकेशन, web pages,  प्रोग्राम, और अन्य) सदा सर्वदा के लिए भंडारित रहती हैं और ये उपयोक्ता के डैस्कटॉप, नोटबुक, गेमिंग कंसोल इत्यादि पर आवश्यकतानुसार इंटरनैट द्वारा अस्थायी रूप से प्रयुक्त की जाती हैं।

क्लाउड कंप्यूटिंग कोई नया विचार नहीं है बल्कि यह कुछ पुराने प्रतिमान का विकास है| क्लाउड कंप्यूटिंग आजकल तकनीकी और व्यावसायिक संगठनों के हित में बढ़ रहा है लेकिन यह सामाजिक मुद्दों को हल करने के लिए भी फायदेमंद हो सकता है। तो आइये इसे और भी अछि तरह से जानते है हिंदी में।

क्लाउड क्या है Cloud Kya Hai?

क्लाउड शब्द को नेटवर्क या इंटरनेट भी कहा जाता है। दूसरे शब्दों में हम कह सकते हैं कि क्लाउड एक ऐसी चीज है, जो
रिमोट लोकेशंस पर मौजूद है। क्लाउड नेटवर्क पर हम सार्वजनिक या निजी सेवाएं प्रदान कर सकते है नेटवर्क, यानी, WAN, LAN या VPN जैसे सेवाए ई-मेल (email), वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing, सीआरएम (CRM) जैसे ऍप्स, सभी क्लाउड में चलते हैं।

क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है (Cloud Computing)?

क्लाउड कंप्यूटिंग हमें एक ऐसा माध्यम प्रदान करता है जिसके द्वारा हम उपयोगिताओं के रूप में अनुप्रयोगों तक पहुंच सकते हैं। यह हमें ऑनलाइन एप्लिकेशन बनाने, कॉन्फ़िगर करने और अनुकूलित करने की अनुमति देता है। सरल शब्दों में कहे तो इंटरनैट के माध्यम से computer से संबंधित सभी काम ऑनलाइन करने को ही क्लाउड कम्प्यूटिंग कहा जाता है।

अर्थात web services प्रदान करने वालों के सर्वरों पर आप अपने सभी कार्य कर सकते है सकते हैं। आप word document, इमेजेस से लेकर वीडियो आदि अपना सारा डाटा इन सर्वरों में ही सेव कर सकते हैं। अब डाटा स्टोर करने के लिए आपको हार्ड ड्राइव या मैमोरी कार्ड (SD Card) आदि की ज़रुरत नहीं पड़ेगी।

इंटरनैट वास्तव में विश्वभर के एक साथ जुड़े कम्प्यूटरों तथा सर्वरों का एक विशाल तंत्र है जिनमें सम्पर्क स्थापित करने के लिए एक जैसी तकनीक का प्रयोग किया जाता है। कम्प्यूटरों तथा सर्वरों के इस जाल में प्रयोग होने वाली सारी जानकारी तथा इसकी विश्वभर में पहुंच को ही Cloud Computing कहा जाने लगा।

क्लाउड कम्प्यूटिंग क्या है

यह काम कैसे करता है?

• सर्च इंजन हो या कोई अन्य वैबसाइट, सभी क्लाउड कम्प्यूटिंग के माध्यम से ही यूजर तक पहुंचती हैं। क्लाऊड कम्प्यूटिंग के माध्यम से ही  विश्वरभर की खबरें news कुछ ही पलों में updates हो जाती हैं।

• जब आप इंटरनैट पर कुछ भी सर्च करते हैं तो यह भी क्लाऊड के माध्यम से ही पूरी होती है। सवाल सीधे सर्वरों तक पहुंचता है। ढेरों सर्वर आपस में जुड़े होने के कारण सूचनाओं का आदान-प्रदान seconds में हो जाता है।

• संरक्षित डाटा में से उत्तर तलाश कर सबसे पहले सर्वर वैबसाइट का प्रारूप तैयार करते हैं और इन्हें एक पेज के रूप में फॉर्मेंट करते हैं तथा इस पेज को आपके पास भेज देते हैं। यह पूरी प्रक्रिया एक सैकेंड से भी कम समय में पूरी हो जाती है।

• सोशल नैटवर्किंग साइट्स Twitter और Facebook भी क्लाऊड कम्प्यूटिंग के आधार पर ही सेवा प्रदान करती हैं। फाइल शेयरिंग से जुड़े कार्य भी क्लाऊड कम्प्यूटिंग के अंतर्गत आते हैं।

टाइप्स ऑफ़ क्लाउड:

तो अब जानते है टाइप्स ऑफ़ क्लाउड हिंदी में – क्लाउड तीन प्रकार के हो सकते हैं और वे है प्राइवेट (Private), पब्लिक (Public), और हाइब्रिड (Hybrid)।

•  प्राइवेट: इस प्रकार के क्लाउड को एक संगठन के भीतर प्रयोग करने के लिए किया जाता है और यह केवल उनके आंतरिक उद्देश्य के लिए उपयोग किया जाता है।

• पब्लिक: इस प्रकार के क्लाउड में कई संगठने क्लाउड सेवाए मांग के आधार पर किराए पर लेते है। उपयोगिता कंप्यूटिंग मॉडल का उपयोग करने वाले उपयोगकर्ताओं को प्रदान की जाने वाली सेवाएं।

• हाइब्रिड: इस प्रकार के क्लाउड कई आंतरिक या बाहरी क्लाउड से बने होते हैं।  हाइब्रिड क्लाउड एक ऐसा समाधान है जो एक निजी क्लाउड को एक या अधिक सार्वजनिक क्लाउड सेवाओं के साथ जोड़ता है।

Cloud Computing in Hindi

क्लाउड सेवाओं के प्रकार Types of Utility Cloud Services:

क्लाउड प्रदाता द्वारा प्रदान की जाने वाली उपयोगिता कंप्यूटिंग सेवाओं को सेवाओं के प्रकार के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है। इन सेवाओं को आम तौर पर XaaS (Software as a service) के रूप में दर्शाया जाता है जहां हम X को इन्फ्रास्ट्रक्चर (Infrastructure) या प्लेटफॉर्म (Platform) या हार्डवेयर (Hardware) या सॉफ्टवेयर (Software) या डेटा (Data) आदि से बदल सकते हैं।

तीन मुख्य प्रकार की सेवाएँ हैं।

  • सॉफ्टवेयर
  • प्लेटफॉर्म
  • इन्फ्रास्ट्रक्चर

ये सेवाएं क्लाउड उपयोगकर्ताओं को विभिन्न स्तर प्रदान करती हैं।

क्लाउड प्रदाता द्वारा प्रदान की जाने वाली उपयोगिता कंप्यूटिंग सेवाओं को सेवाओं के प्रकार के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है। इन सेवाओं को आम तौर पर XaaS के रूप में दर्शाया जाता है जहां हम X को इन्फ्रास्ट्रक्चर या प्लेटफॉर्म या हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर या डेस्कटॉप या डेटा आदि से बदल सकते हैं।

1. SaaS (Software as a Service): सास मल्टीटेनेंट आर्किटेक्चर का उपयोग करके हजारों ग्राहकों को वेब ब्राउज़र के माध्यम से एक ही एप्लिकेशन डिलीवर करता है। ग्राहकों को सर्वर्स और सॉफ्टवेयर लाइसेंसिंग में बोहत ज़्यादह पैसे खर्च नहीं करने पड़ेंगे।

SaaS के तहत, सॉफ़्टवेयर पब्लिशर सभी आवश्यक हार्डवेयर और सॉफ़्टवेयर चलाता है और मेन्टेन करता है। SaaS का ग्राहक इंटरनेट के माध्यम से एप्लिकेशन एक्सेस करता है।

उदाहरण के लिए www.Salesforce.com जो ग्राहक CRM सॉफ़्टवेयर समाधान प्रदान करता है और जिसकी आय सालाना  30 करोड़ से भी अधिक है।

Google डॉक्स भी SaaS का एक बहुत अच्छा उदाहरण है जहाँ उपयोगकर्ता अपने डाक्यूमेंट्स documents, या स्प्रेडशीट spreadsheets बना सकते हैं, एडिट कर सकते हैं, डिलीट सकते हैं और शेयर कर सकते हैं।

उदाहरण: Google Apps, Salesforce, Zoho Office

2. PaaS (Platform as a Service): पास एक सेवा के रूप में विकास पर्यावरण प्रदान करता है। पास के द्वारा कोई भी अपने लिए स्वयं एप्लिकेशन बना सकता है जो provider’s infrastructure पर चलते हैं।

PaaS का उपयोग करके बनाए गए एप्लिकेशन SaaS के रूप में पेश किए जाते हैं और सीधे एन्ड उसेर्स के web browser से उपभोग किए जाते हैं। यह अन्य सेवा प्लेटफार्मों से तृतीय-पक्ष वेब-सेवाओं को इंटेग्रटे करने की क्षमता देता है।

उदाहरण: Google App Engine, OpenShift, AWS Lambda, etc.

3. IaaS (Infrastructure as a Service): IaaS सेवा क्लाउड के उपयोगकर्ताओं को अन्य सेवाओं की तुलना में निचले स्तर तक अधिक नम्यता प्रदान करती है। यह डेवलपर्स को OS स्तर नियंत्रण के साथ CPU clocks भी देता है।

उदाहरण: Amazon EC2, Linode, Azure Virtual Machines, etc.

क्लाउड सर्विस प्रोवाइडर:

क्लाउड कंप्यूटिंग का उपयोग करने वाले एप्लिकेशन अपने उच्च के लिए दिन-प्रतिदिन लोकप्रियता प्राप्त कर रहे हैं| आज कई सारे क्लाउड प्रदाता हैं आईटी मारकेट में उनमें से Google, माइक्रोसॉफ्ट एज़ूर, और अमेज़ॅन ही लोकप्रियता और तकनीकी दृष्टिकोण के लिए प्रमुख हैं।

जानिये कौनसा है दुनिया का सबसे छोटा देश?

  • अमेज़न वेब सर्विसेस (AWS)
  • Google Cloud (गूगल क्लॉउड)
  • Microsoft Azure (माइक्रोसॉफ्ट अज़ुर)
  • IBM Cloud (ई बी एम)
  • Ali Baba (अली बाबा क्लॉउड)
  • ओरेकल (Oracle)
  • सलेसफोर्स (Salesforce)

तो दोस्तों ये था आज का आर्टिकल Cloud Computing in Hindi अगर आपको ये आर्टिकल अछा लगा तो इसे अपने Facebook पेज पर और अपने दोस्तों के साथ ज़रूर शेयर करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.